वो 10 सबूत जो साबित करते है की भगवान श्री राम थे

76
4049
वो १० सबूत जो साबित करते है की भगवान श्री राम थे
वो १० सबूत जो साबित करते है की भगवान श्री राम थे


राम ही तो करुणा में है , शान्ति में राम है 
राम ही है एकता में , प्रगति में राम है 
राम बस भक्तों नहीं शत्रु के भी चिंतन में है 
देख तज के पाप रावण , राम तेरे मन में है 
राम तेरे मन में है , राम मेरे मन में है 
राम तो घर घर में है , राम हर आँगन में है 
मन से रावण जो निकाले , राम उसके मन में है ….

क्या आप भगवान को मानते है, अगर हाँ तो ये आर्टिकल आपको और पास ले जायेगा आपकी आस्था के| ये माना जाता है की भारतीय सभ्यता और संस्कृति सबसे प्राचीन है, चलिए जानते है क्या हम सच में इतने प्राचीन है |और वो 10 सबूत जो साबित करते है की भगवान श्री राम थे

ये माना जाता है की साइंस जो कुछ भी खोज रही है, वो सब पहले से ही इस ब्रह्माण्ड में मौजूद है,यानि की डिस्कवर कर रही है, तो क्या ये एक ऐसी पहेली है जिसे हमे इसलिए दिए गया है की एक दिन हम जान ही जाएंगे की क्या है नीले गगन के पार |

जब हम रामायण और महाभारत काल की बात करते है, तो ये मानते है की वो अलग युग की कथा है, मगर उसके सबूत आज भी हमारे आस पास मौजूद पाए जा रहे है,

अनुवांशिक शोध बता रहे है की रामायण काल में पायी गयी जाति आज भी मौजूद है, और ये उनके अनुवांशिक हस्ताक्षर बता रहे है, ये जातियाँ है गोंड कोल और भील, जिसमे की गोंड जाति के लोग आज भी तेलंगाना के साथ ही भारत के अन्य प्रदेशो में पाए जाते है,खोज में पाया गया है की भारतीय सभय्ता  और इसके  पूर्वज 60000 से भी अधिक साल पुराने है, ये इस बात का सबूत है की रामायण कल जो की 12000 साल पुराना है, वो सत्य है |

गोंड, कोल और भील ये सभी जातियाँ रामायण में वर्णित है और इनके प्रामाणिक होने का और रामायण काल से जुड़ा होने का वैज्ञानिक सबूत भी अब सामने है, जो की दर्शा रहा है की हमारी सभ्यता पुरानी होकर भी नवीन है,

तस्वीरों के जरिये हम आपको रामायण काल के और समीप लिए चलते है –

हनुमान चिन्ह के पद चिन्ह

हनुमान जी के पद चिन्ह

ये जो आपको पद चिन्ह दिख रहे है ये है हनुमान जी के, और ये तब बने जब राम जी के साथ वो सीता जी को ढूंढ़ते हुए आये और मिले जटायु से और उन्हें मृत्यु के समीप देख कर कहा ‘ले पक्षी’ जिसका की अर्थ होता है उदय पक्षी, और ये एक तेलुगु शब्द है |

तैरता पत्थर

दूसरी फोटो है पत्थर की जो पानी में तैर रहा है, और ये पत्थर राम सेतु निर्माण में लाया गया था, जिस कारण यह तैर सकता है |

मध्य प्रदेश का वो स्थान

तीसरी तस्वीर उस स्थान की है जहाँ पर रावण सीता का हरण कर के ले जाते समय मिले जटायु से और सीता जी को बचने में अपने प्राण दे दिए, यह स्थान आंध्र प्रदेश में है |

बालो का झड़ना कैसे रोंके- अचूक उपाय

नेपाल का जानकी मंदिर

चौथी तस्वीर है जनकपुर, नेपाल की और ये है जानकी मंदिर, जानकी जैसा की हम जानते है सीता जी का नाम था, जो की जनक की बेटी थी |

रावण के दस सर

पांचवी तस्वीर में रावण दिख रहा है जिसके की दस सर दिखाए गए है, जो की उसके दस राज्यों के राजा होने को दिखा रहे है |

नासिक के पास पंचवटी

छठी तस्वीर है निर्वासन की जिस पर राम, सीता, और लक्ष्मण गए थे और एक झोपडी बनाई थी पंचवटी में, जो की एक स्थान है नासिक के पास, इसके पास है ‘तपोवन’ जहाँ पर लक्ष्मण सूर्पनखा मिले थे |

जब हनुमान की एक भूल बनी श्रीराम की मृत्यु का कारण

उसानगोडा की मिट्टी का काला होना

सातवी तस्वीर है उस स्थान की जहाँ की मिट्टी आज भी काली पायी जाती है, जिसका की कारण है हनुमान जी द्वारा लंका को जलाया जाना, और यह स्थान है उसानगोडा जहाँ से रावण का विमान उड़ता था |

अशोक वाटिका की झील में उनके पदचिन्ह

आठवीं तस्वीर है हनुमान जी के अशोक वाटिका में पहुंचने की, जहाँ पर वो विशालकाय रूप में पहुंचे थे, और ये उनके पद चिन्ह है जो झील में पाए गए है |

सुग्रीव की गुफा

नवी तस्वीर है सुग्रीव की गुफा की जो की अभी भी अपनी मौजूदगी दर्ज़ करा रही है |

अशोक वाटिका

दसवीं तस्वीर है उस वाटिका की जहाँ पर रावण सीता जी को लेकर आया था, जो की अब एक पर्यटन स्थल है |

76 COMMENTS

  1. I like what you guys are up also. Such smart work and reporting! Keep up the superb works guys I?¦ve incorporated you guys to my blogroll. I think it will improve the value of my website 🙂

  2. Today, while I was at work, my sister stole my iPad and tested
    to see if it can survive a twenty five foot drop, just so she can be a youtube sensation. My iPad
    is now destroyed and she has 83 views. I know this is entirely off topic
    but I had to share it with someone!

  3. You could certainly see your expertise in the work you write.

    The sector hopes for even more passionate writers such as you who are not
    afraid to mention how they believe. All the time follow your heart.

  4. of course like your web-site however you need to take
    a look at the spelling on quite a few of your posts. Many of
    them are rife with spelling issues and I find it very bothersome
    to inform the truth then again I will certainly come again again.

  5. I want to express my appreciation to you for bailing me out of this dilemma.
    Because of looking out through the search engines and getting
    tricks that were not productive, I believed my life was over.

    Living minus the strategies to the issues you have sorted out by means
    of your short article is a crucial case, and the kind that would have negatively affected my career if I had not noticed
    your site. That training and kindness in dealing with a lot of stuff was valuable.
    I’m not sure what I would have done if I had not come across such a step like this.
    I’m able to at this moment look forward to my future.
    Thanks so much for your specialized and effective guide.
    I will not hesitate to refer the blog to anybody who would like assistance
    on this topic.

  6. I’ve been browsing online more than three hours today, yet I never found any interesting article like yours.
    It is pretty worth enough for me. In my opinion, if all
    website owners and bloggers made good content as you did, the net will be a lot
    more useful than ever before.

  7. I am extremely impressed together with your writing skills and
    also with the layout in your blog. Is that this a paid subject matter or did you customize it yourself?
    Either way stay up the excellent quality writing, it is rare to
    peer a nice weblog like this one these days..

  8. I’m pretty pleased to uncover this site. I wanted to thank you for your time for this fantastic read!!
    I definitely loved every little bit of it and I have you book-marked to see new stuff in your blog.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here