डिफेंस कारीडोर भी खोलेगा रोजगार के नये द्वार

0

बायोमेट्रिक गन रही आकर्षण का केन्द्र

एयरटेल ने डिजिटल उत्तर प्रदेश के लिए बैकबोन तैयार किया


माननीय नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश विकास के शिखर को छू रहा है आज चाहे डिजीटल इंडिया की बात हो या भारतीय रक्षा क्षेत्र हर जगह विकास साफ तौर पर नजर आएगा। उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि केन्द्र सरकार उत्तर प्रदेश के विकास को नई उड़ान देने के लिए भारत सरकार द्वारा डिफेंस इंडस्ट्रियल कोरिडोर विकसित करने का निर्णय लिया गया है। इसके फलस्वरूप उत्तर प्रदेश के बुंदेलखण्ड क्षेत्र में सीमांत, छोटे एवं मझोले उद्योगों तथा स्टार्टअप को बढ़ावा देने का पूरा खाका तैयार कर लिया गया है जिससे आने वाले समय में भारत की आंतरिक एवं वाह्य सुरक्षा मजबूत होगी। इन उद्योग के बढ़ावा मिलने से यहाँ रोजगार के क्षेत्र में भी काफी वृद्धि होगी जिसका सीधा लाभ हमारे देश के युवाओं को मिलेगा। श्री महाना ने कहा कि कोरीडोर के लिए भूमि अधिगृहण की कार्यवाही अंतिम चरण में है। श्री महाना ने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के मर्करी हाल में ग्राउण्ड ब्रेकिंग सेरेमनी-2 कार्यक्रम में आयोजित डिफेंस एण्ड एअरोस्पेस मैन्यूफैक्चरिंग सत्र में उद्यमियों से कहा कि उद्योगपतियों की सुविधा के लिए डिफेंस इंडस्ट्रियल पालिसी बनाई गई है, जिसके माध्यम से जमीन खरीदने पर उद्यमियों को 100 प्रतिशत तक छूट प्रदान करने की व्यवस्था की गई है। बड़ी संख्या में उद्यमी बुंदेलखण्ड में अपना उद्यम स्थापित करने के प्रति इच्छुक है। उन्होंने कहा कि कोरीडोर के स्थापना में तेजी लाने के लिए जल्द देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ बैठक की जायेगी। अगले वर्ष डिफेंस एक्सपों का भी आयोजन किया जायेगा। अपर मुख्य सचिव, यूपीडा अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा कि राज्य सरकार ने डिफेंस इंडस्ट्रियल कोरीडोर की स्थापना के लिए 500 करोड़ के बजट का प्राविधान किया है। बुंदेलखण्ड में उद्यम स्थापना के लिए विशेष आकर्षक पैकेज बनाये गये हैं। आने वाले 45 दिनों के भीतर भूमि अधिगृहण की कार्यवाही पूर्ण कर ली जायेगी। कोरीडोर के तहत पहले वर्ष 500 करोड़ व दूसरे वर्ष 1200 करोड़ निवेश के लक्ष्य हैं। उद्यमियों की सुविधा के लिए 24 घंटे विद्युत की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। उन्होंने कहा कि बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस-वे के लिए 90.5 प्रति भूमि का अधिगृहण किया जा चुका है। 24 से 25 माह के भीतर बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस-वे के निर्माण का कार्य पूरा कराने का लक्ष्य है। सत्र के दौरान निदेशक डिफेंस एण्ड एअरोस्पेस कर्नल के.वी.कुबेर, संयुक्त सचिव डिफेंस एण्ड एअरोस्पेस मैन्यूफैक्चरिंग पालिसी आफ इण्डिया (भारत सरकार) संजय जाजू ने रक्षा एंव विमानन क्षेत्र की सम्भावनाओं प्रकाश डालते हुये कहा कि विकास के नये आयाम स्थापित करने के लिये उत्तर प्रदेश डिफेंस इंडस्ट्रियल कारीडोर एक महत्तवाकांक्षी परियोजना है, इसके पलस्वरूप भारत की सुरक्षा मजबूत होने के साथ-साथ यह उद्योग सरकार, जनता और पूरे प्रदेश के लाभकारी सिद्ध होग

The 10 Best Biometric Gun Safes

समारोह के दौरान इस मौके पर कानपुर की एक संस्था श्री हंस एनर्जी सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड के प्रतिनिधी औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना को बायोमेट्रिक तकनीक पर आधारित गन भी दिखाई। संस्था के प्रतिनिधी ने बायोमेट्रिक गन के फायदे गिनाते हुए कहा कि अगर ये गन गलती से चोरी या कहीं खो भी जाये तो इसको पाने वाला सक्श इसका प्रयोग नहीं कर पायेगा और यदि किसी अजनबी से इसका ट्रिगर दब भी जाये तो इससे गोली नहीं चलेगी सुरक्षा के मायने में ये बायोमेट्रिक गन काफी सफल सिद्ध होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here