कानपुर में मेट्रो परियोजना का हुआ शिलान्यास, पीएम बोले- आतंकवाद पर रंगे हाथ पकड़ा गया पाकिस्तान

0

– कानपुर में पीएम ने कई योजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास

– कानपुर से ही बटन दबाकर लखनऊ के नए मेट्रो रूट का किया शुभारम्भ 

– मोदी ने कहा : अपने ही लोग गलत बयान देकर कर रहे पाकिस्तान की मदद

कानपुर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कानपुर में कई योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद हमारे देश के वीर सेनानियों ने जो पराक्रम दिखाया, उससे उससे सभी लोगों का सीना चौड़ा हो गया। लेकिन, विपक्षी दल राजनीतिक स्वार्थ के लिए जिस प्रकार की भाषा का प्रयोग कर रहे हैं, सरकार पर जो आरोप लगा रहे हैं, उससे देश के दुश्मनों को ताकत मिल रहा है। आज जब पाकिस्तान आतंकवाद पर रंगे हाथों पकड़ा गया है। ऐसे समय में हमारे ही लोगों के बयान पाकिस्तान को मदद कर रहे हैं। 

मोदी ने वहीं से लखनऊ मेट्रो के नए रूट का भी बटन दबाकर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि उप्र के विकास को गति देने के लिए पहले की सरकारों के पास नियत नहीं थी। योगी के मुख्मयंत्री बनने के बाद यहां लगातार विकास के काम हो रहे हैं। चारों तरफ निवेश लायक माहौल बन रहा है। इससे उप्र की तस्वीर अब बदलती दिखायी दे रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ”आज मैं कानपुर में मेट्रो की शुरूआत कर रहा हूं। कानपुर की धरती को नमन करता हूं। कानपुर ने स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर आजाद भारत तक कई सपूतों को गढ़ा है। नाना राव पेशवा, तत्या टोपे जैसे अनेक वीरों को कानपुर ने प्रेरणा दी है। दीन दयाल उपाध्याय, अटल जी और रामनाथ कोविंद को इसी धरती ने दिशा दी है।”

मोदी ने कहा कि यह देश का एक अहम शहर है। कानपुर के सामान्य जीवन और यहां के कारोबार को शक्ति देने के लए आपके बीच आने का सौभाग्य मिला है। उन्होंने कहा कि थोड़ी देर पहले ही कानपुर और उप्र के विकास से जुडी हजारों करोड़ रुपए की योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया गया है। 

मोदी ने कहा कि लखनऊ की मेट्रो लाइन का शुभारम्भ यहीं से किया गया है। यह उप्र के लोगों के जीवन में बहुत बड़ा बदलाव लेकर आएगा। यह उद्योगों का शहर है। यहां की पहली प्राथमिकता अच्छी बिजली होती है। पहले उप्र में बिजली की क्या स्थिति थी। योगी सरकार ने जिस तरह से काम किया है उसकी वजह से उद्यमियों को पुरानी परेशानियों से निजात मिली है। 

मोदी ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि पनकी परियोजना में एक यूनिट 52 साल पहले लगी थी और दूसरी यूनिट 43 वर्षों पहले लगी थी। इतने वर्षों में मशीनें भी पुरानी हो जाती हैं। इसकी वजह से बिजली महंगी हो गई थी। आज से लगभग छह हजार करोड रुपऐ की लागत से पनकी विद्युत परियोजना के विस्तारीकरण का काम शुरू हो जाएगा। इससे बिजली पहले की तुलना में आधे दाम में मिलेगी।
 
पीएम ने दावे के साथ कहा कि जिस काम का शिलान्यास हम करते हैं उसका उद्घाटन भी मैं ही करता हूं। तीन साल बाद इस कारखाने का उदघाटन करने मैं ही आउंगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here