कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया

0
charles babbage & first computer

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया (Computer Ka Avishkar Kisne Kiya): कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जिसे निर्देश देकर सवालों के गणितीय या तार्किक उतर प्राप्त किये जा सकते है |

कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग के उपयोग द्वारा, आधुनकि कम्प्यूटर्स में प्रोग्रैम्स के द्वारा किसी भी प्रकार के काम को करवाया जाता है | इन प्रोग्राम्स की मदद से बहुत बड़ी संख्या में काम किया जा सकता है, एक कंप्यूटर हार्डवेयर, ओपेरस्टिंग सिस्टम और पेरिफेरल्स के साथ ही फुल ऑपरेशन करने में सक्षम होने पर कंप्यूटर सिस्टम कहलाता है |

इसका उपयोग बड़े पैमाने पर औद्योगिक और उपभोक्ता प्रयोगो में काम आता है, जिसमे की माइक्रोवेव ओवेन्स और रिमोट कंट्रोल्स, फैक्ट्री उपकरण जैसे की औद्योगिक रोबोट और कंप्यूटर एडिड डिज़ाइन, पर्सनल कम्प्यूटर्स और मोबाइल के रूप में प्रयोग किये जाते है |
इंटरनेट भी कम्प्यूटर पर चलता है, और ये अपने जैसे लाखो करोड़ो कम्प्यूटर्स से जुड़ा रहता है |प्रारंभिक रूप से कम्प्यूटर्स कैलक्युलेटिंग उपकरण थे, अबेकस सबसे पहले इस काम में आया था |

कप्यूटर का इतिहास(Computer Ka Avishkar Kisne Kiya)

‘कंप्यूटर कब बना'(Computer Ka Avishkar Kisne Kiya), इसके लिए हमे Charles Babbage के साथ ही इस दिशा में प्रयास करने वाले और भी नाम मिलते है पहली डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक कैलक्युलेटिंग मशीन दूसरे विश्व युद्ध के समय बनी थी, इसके बाद के समय में गति और पावर दोनों में बहुत बदलाव देखा गया |

आम तौर पर आधुनिक कम्प्यूटर्स में कम से कम एक प्रोसेसिंग एलिमेंट CPU और मेमोरी होती है | प्रोसेसिंग element गणितीय और तार्किक कार्य करने में, और क्रमिक और कण्ट्रोल यूनिट सुचना जो की स्टोर है कंप्यूटर में उसे बदल भी सकते है, बदलने से मतलब उसके क्रम को बदलने से है, की कौन सा कार्य पहले आवश्यक है कौन सा बाद में |

पेरीफेरल उपकरण जैसे की कीबोर्ड, माउस, जॉयस्टिक आदि, आउटपुट डिवाइस जैसे की मॉनिटर, प्रिंटर्स आदि, साथ ही कुछ ऐसे भी उपकरण है जो इनपुट आउटपुट दोनों का काम करते है जैसे की टच स्क्रीन, पेरीफेरल उपकरण बाहर से भी सूचना प्राप्त करके कंप्यूटर को देते है |

कंप्यूटर शब्द का नाम

कंप्यूटर शब्द का पहली बार उपयोग 1613 में हुआ था, एक किताब में जिसका की नाम था The Yong Mans Gleanings जिसे की  English writer Richard Braithwait  ने लिखा था | जो व्यक्ति कॅल्क्युलेशन्स करता था उसे ह्यूमन कंप्यूटर कहा जाता था, 20 सदी के मध्य तक इस शब्द का अर्थ यही रहा, बाद में महिलाएं कम्प्यूटर्स के तौर पर प्रयोग की जाती थी, क्यूंकि उन्हें पुरुषो की तुलना में कम पैसे देने पड़ते थे |(Computer Ka Avishkar Kisne Kiya)

1943 तक सभी महिलाएं ही अधिकतम मानव कम्प्यूटर्स थी, 19 th सेंचुरी के अंत तक इस शब्द ने अपना असली मतलब प्राप्त किया जो की था एक मशीन जो calculations कर सके |

अबेकस सबसे पहले इस्तेमाल किया गया था अर्थमेटिक के लिए, रोमन अबेकस बेबीलोनिया में बने उपकरणो से बना था, जो की 2400 BC में बना, इसके बाद से बहुत प्रकार के गड़ना करने वाले यन्त्र बने जैसे की बोर्ड्स और टेबल्स |

प्राचीन ग्रीक में Antikythera mechanism सबसे पुराना mechanical analog “computer” था, Derek J. de Solla Price के अनुसार, जिसे की astronomical positions पता करने क लिए बनाया गया था | इसकी खोज 1901 में करी गयी, और इसके जैसा कोई मैकेनिज्म मिलना मुश्किल माना गया है | इसके जैसे अनेक खगोलीय और navigating system बने है दुनिया में, जैसे की planisphere astrolabe , planisphere और dioptra को मिला कर astrolobe बना जो की एक एनालॉग कंप्यूटर था, जिससे की spherical astronomy के बहुत से सवालो के जवाब प्राप्त हुए |

Sector नाम का एक calculating instrument जिसका की इस्तेमाल proportion, trigonometry, multiplication, division, squares और cube roots निकालने में किया जाता था | इसे 16 शताब्दी में बनाया गया था |

1770 में Pierre Jaquet-Droz जो की एक स्विस watchmaker थे उन्होंने एक डॉल बनायीं थी, जो की पंखो वाली कलम को पकड़ के लिख सकती थी, ये मशीन अभी भी स्विट्ज़रलैंड में मौजूद है |

कंप्यूटर के आविष्कारक “Charles Babbage”

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया, इसका श्रेय Charles Babbage, जो की एक mechanical engineer और polymath थे, उन्होंने ही programmable कंप्यूटर का आविष्कार किया, शुरुआती तौर पर इसका श्रेय उन्हें ही जाता है मगर सहयोग आगे उन्हें उनके बेटे का भी प्राप्त हुआ| उन्होंने कंप्यूटर 19 सदी में बना दिया था, डिफ़्फेरन्स इंजन पर काम करने के बाद, उन्हें लगा की एक Analytical Engine बनाया जा सकता है |

इनपुट के लिए डाटा और प्रोग्राम्स की पंच कार्ड्स का उपयोग किया जाता था, आउटपुट के लिए मशीन के पास प्रिंटर, curved प्लॉटर और Bell थी, मशीन में नंबर पंच करने की भी व्यवस्था थी जिन्हे  की बाद में पढ़ा जा सकता था | इंजन में arithmetic logic unit, control flow और इंटीग्रेटेड मेमोरी भी थी, जो की इसकी डिज़ाइन को पहला जनरल कंप्यूटर बनाती थी |

ये मशीन अपने समय से 100 साल आगे की थी, इसके सभी पार्ट्स का निर्माण हाथो से किया गया था, और यही इसकी सबसे बड़ी समस्या थी, और बाद में इस प्रोजेक्ट को बंद  कर दिया गया फंडिंग न मिलने के चलते,Charles Babbage मुख्य रूप से राजनैतिक और वित्तीय कारणों के साथ ही उनकी इस इच्छा के चलते भी सफल नहीं हुए, जो की थी एनालिटिकल इंजन को समय से आगे का बनाना | उनके बेटे ने टेबल्स की कंप्यूटिंग कर के 1906 में ,एनालिटिकल इंजन का simplified version तैयार किया था और इसका demonstration भी किया था |

Analog Computers

20 सदी की शुरुआत में बहुत सी वैज्ञानिक आवश्यकताएं एनालॉग कम्प्यूटर्स के चलते पूरी होती रही,जो की मैकेनिकल या इलेक्ट्रिकल मॉडल का इस्तेमाल करते थे कम्प्यूटेशन के लिए | जबकि इनमे मॉडर्न कम्प्यूटर्स जैसी एक्यूरेसी नहीं थी, पहला Analog कंप्यूटर एक तूफ़ान का आकलन करने वाली मशीन था जिसे की Sir William Thomson ने 1872 में बनाया था | 1950 के दशक तक एनालॉग कम्प्यूटर्स का चलन कुछ specialized applications में हुआ जैसे की एजुकेशन (कण्ट्रोल सिस्टम) और एयरक्राफ्ट में (स्लाइड रूल)के रूप में |

1938, में United States Navy ने Electromechanical Analog Computer बना लिया था, जिसका की उपयोग  सबमरीन में किया गया था, ये Torpedo Data Computer था जिसका की काम था trigonometry का इस्तेमाल करके फायर करना |

The Z2, जिसे की  German engineer”Konrad Zuse”ने 1939, में बनाया जो की सबसे पहले बना Electromechanical relay Computer था |

Vacuum tubes और Digital electronic circuits

Vacuum tubes और digital electronic circuits ने आकर कंप्यूटर की दुनिया में नए बदलाव लाये, US में John Vincent Atanasoff और Clifford E. Berry, Iowa State University में develope और  test किया  Atanasoff–Berry Computer (ABC) in 1942, जो की पहला  “automatic electronic digital computer” था |

Colossus पहला electronic digital programmable Computer था, जिसका की प्रयोग द्वितीय विश्व युद्ध में किया गया था जर्मनी के विरुद्ध, साथ ही ENIAC नाम का एक और ऐसा ही electronic digital programmable Computer जो की Colossus से बेहतर था, जिसे की US ने बनाया था |

किसने दिया मॉडर्न कंप्यूटर का Concept

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया, इसका श्रेय तो Charles Babbage को ही जाता है मगर, मॉडर्न कंप्यूटर का Concept Alan Turing ने दिया 1936 में, कम्प्युटेबल नंबर्स पर उन्होंने जिस डिवाइस का नाम सुझाया वो था “Universal Computing machine” और उसे universal Turing machine कहा गया |

उन्होंने सिद्ध किया की ये ऐसी मशीन होगी जो कुछ भी compute कर के देगी, निर्देशों के द्वारा जिन्हे की टेप में स्टोर किया गया हो, साथ ही जो मशीन को प्रोग्रामेबल भी बनाती है | Turing ने मुख्य रूप से ये कांसेप्ट  मेमोरी में स्टोर हो सके ऐसे कंप्यूटिंग निर्देशों के लिए बनाया था, स्टोरेज छमता को छोड़ दे तो उस समय के कंप्यूटर आज चल रहे कम्प्यूटर्स जैसे ही थे, उनमे algorithm execution capability थी जो की universal Turing machine के बराबर थी |

शुरुआती कम्प्यूटर्स में फिक्स्ड प्रोग्राम्स होते थे, और इसे बदलने के लिए पूरे सिस्टम को ही दुबारा से बनाना पड़ता था | बाद में इस दिशा में सुधार शुरू हुआ, और स्टोर्ड प्रोग्राम्स बनने लगे, इसकी खोज को बल मिला “एलन टूरिंग” के पेपर्स के चलते जिन्हे की उन्होंने 1936 में प्रकशित किया, 1945 में टूरिंग ने नेशनल फिजिकल लेबोरेटरी ज्वाइन करी, और Electronic stored-program digital computer की दिशा में प्रयास शुरू हुआ, और साथ ही “Proposed Electronic Calculator” जैसी एक डिवाइस को सोचा गया |

दुनिया का पहला Stored-program computer “Manchester Baby” था, जिसे की Victoria यूनिवर्सिटी, मेनचेस्टर में Frederic C. Williams, Tom Kilburn और  Geoff Tootill, ने बनाया, और पहला प्रोग्राम 21 June 1948 को रन कराया गया |

इसे डिज़ाइन किया गया था Williams tube के लिए, जो की पहली Random-access digital storage डिवाइस थी | Grace Hopper पहले व्यक्ति थे जिन्होंने कम्पाइलर बनाया था प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के लिए |

Mark 1 पहला प्रोटोटाइप बना Ferranti Mark 1 के लिए जो की पहला commercially available general-purpose computer बना दुनिया का, जिसे की Ferranti  ने बनाया था , जिसे की  University of Manchester को  February 1951 में  दिया गया, इसके साथ ही कमर्शियल कम्प्यूटर्स की दिशा में प्रयास शुरू हुआ है J. Lyons & Company वो कंपनी बनी जिसने इस दिशा में काम शुरू किया |  LEO I पहला कंप्यूटर बना जिससे की ऑफिस का रोज़ाना का काम कंप्यूटर से शुरू हुआ April 1951 में |

वाट्सऐप का आविष्कार किसने किया

Bipolar Transistors और Integrated Circuit

साथ ही बाइपोलर ट्रांसिस्टर्स के आने से भी बड़ा बदलाव आया |

Tom Kilburn और उनकी टीम ने मिलकर पहला transistorised computer बनाया जो की दुनिया का भी पहला ऐसा कंप्यूटर था और ये 1953 में बना |

इसके बाद जो बड़ा बदलाव आया वो इंटीग्रेटेड सर्किट के आने से, पहली प्रैक्टिकल IC बनाने का श्रेय Jack Kilby और Robert Noyce को जाता है |

कण्ट्रोल यूनिट जो की कंप्यूटर के सभी कंपोनेंट्स को कण्ट्रोल करता है, साथ ही पढता और इन्टरप्रेट करता है प्रोग्राम निर्देशों को, साथ ही कण्ट्रोल सिग्नल्स में बदल देता है जो की बाकि पार्ट्स को activate करता है, एडवांस कम्प्यूटर्स में ये order of execution को भी बदल देता है, जिससे की performance में सुधार होता है |Control unit, ALU, aur registers मिल कर CPU Central Processing Unit बनाते है, बाद में ये microprocessor बन गया | हमारे आर्टिकल Computer Ka Avishkar Kisne Kiya में और आगे पढ़ते चले

Arithmetic logic unit (ALU) इस यूनिट में arithmetic और logic बेस्ड काम करने की क्षमता होती है |
Memory कम्प्यूटर्स में दो प्रकार की होती है, RAM और ROM जिसमे की RAM में बदलाव किया जा सकता था, मगर ROM में बदलाव संभव नहीं होता |
Input/output (I/O) से मतलब जिसके द्वारा कंप्यूटर बाहरी दुनिया से सूचनाओं का आदान प्रदान करता है |
मल्टीटास्किंग यानि की एक साथ बहुत से काम करने की योग्यता जो की अब आने वाले कम्प्यूटर्स में मौजूद है
Multiprocessing उन कम्प्यूटर्स में पॉसिबल है जो एक साथ बहुत सारे CPU को अपना काम देते है, जैसे की supercomputer mainframe और servers |

भारत के पहले ‘सुपर कंप्‍यूटर’ की हैरान कर देने वाली कहानी

Artificial Intelligence आने वाले भविष्य की सबसे बड़ी खोज इसे ही माना जा रहा है, जिससे आधारित कम्प्यूटर्स और बाकि उपकरण आपके बहुत से काम आसान हो जाने वाले है | इसमें दो प्रमुख टेक्नोलॉजी होती है rule based और pattern recognition system जिसमे की रूल बेस्ड सिस्टम मानव आधारित नियमो पर काम करेंगे, और ये बहुत ही महंगे है, पैटर्न आधारित सिस्टम डाटा का प्रयोग करके conclusion निकालेगा, इसके उदहारण है voice recognition, font recognition, ट्रांसलेशन और on-line marketing

Use के अनुसार तीन प्रकार के कंप्यूटर होते है –

Analog computer
Digital computer
Hybrid computer

साइज के अनुसार 9 प्रकार के कंप्यूटर होते है –

Smartphone
Microcomputer
Workstation
Personal computer
Laptop
Minicomputer
Mainframe computer
Supercomputer
Tablet computer

कम्प्यूटर्स में 5 Generations है

गूगल का आविष्कार किसने किया और कब

First Generation (mechanical /electromechanical)

Calculators जिसमे की Pascal’s calculator, Arithmometer, Difference engine, Quevedo’s analytical machines आती है |

Programmable Devices जिसमे की Jacquard loom, Analytical engine, IBM ASCC/Harvard Mark I, Harvard Mark II, IBM SSEC, Z1, Z2, Z3 ये सब आते  है

Second generation (vacuum tubes)

Calculators – Atanasoff–Berry Computer, IBM 604, UNIVAC 60, UNIVAC 120

Programmable Devices – Colossus, ENIAC, Manchester Baby, EDSAC, Manchester Mark 1, Ferranti Pegasus, Ferranti Mercury, CSIRAC, EDVAC, UNIVAC I, IBM 701, IBM 702, IBM 650, Z22

Third generation (discrete transistors and SSI, MSI, LSI integrated circuits)

Mainframes – IBM 7090, IBM 7080, IBM System/360, BUNCH Minicomputer –  HP 2116A, IBM System/32, IBM System/36, LINC, PDP-8, PDP-11
Desktop Computer – Programma 101, HP 9100

Fourth generation (VLSI integrated circuits)         

Minicomputer – VAX, IBM System i
4-bit microcomputer – Intel 4004, Intel 4040
8-bit microcomputer –Intel 8008, Intel 8080, Motorola 6800, Motorola 6809, MOS Technology 6502, Zilog Z80
16-bit microcomputer – Intel 8088, Zilog Z8000, WDC 65816/65802
32-bit microcomputer – Intel 80386, Pentium, Motorola 68000, ARM
64-bit microcomputer – Alpha, MIPS, PA-RISC, PowerPC, SPARC, x86-64, ARMv8-A
Embedded computer – Intel 8048, Intel 8051
Personal computer – Desktop computer, Home computer, Laptop computer, Personal digital assistant (PDA), Portable computer, Tablet PC, Wearable computer
Theoretical/experimental – Quantum computer, Chemical computer, DNA computing, Optical computer, Spintronics-based computer

Input devices

Computer keyboard
Digital camera
Graphics tablet
Image scanner
Joystick
Microphone
Mouse
Overlay keyboard
Real-time clock
Trackball
Touchscreen

Output devices

Computer monitor

Printer

PC speaker

Projector

Sound card

Video Card

कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया(Computer Ka Avishkar Kisne Kiya), अब आप इस विषय में अच्छे से जान गए होंगे, यदि कुछ और जानना चाहे तो कमेंट सेक्शन में बताये,कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी से जुड़ी हुई और भी रोचक जानकारियां आपको मिलती रहेंगी Heyuno पर हमे like, comment और share करना न भूले, जुड़े रहे Heyuno के साथ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here