10 tips to relief from menstrual cramps

0
10 tips to relief from menstrual cramps
10 tips to relief from menstrual cramps

10 tips to relief from menstrual cramps-पीरियड्स या मासिक धर्म एक ऐसा दौर है जो मानव वृद्धि के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। पीरियड्स स्त्रियो व लड़कियों के जीवन का महत्वपूर्ण अंग है पर पीरियड्स के दौरान अक्सर पेट के निचले हिस्से , कमर व पैरों में भयंकर दर्द होता है। यूटेरस से लगातार रक्त स्त्राव के कारण यूटेरस में खून की कमी हो जाती है , जिसके कारण मसल्स में ऐंठन व दर्द शुरू हो जाता है। ये दर्द इतना भयंकर होता है कि कुछ लोगों की बुखार हो जाता है। असहनशील महिलाएं व युवतियां इससे छुटकारा पाने के लिए दर्द निवारक गोलियां ( pain killers ) खाना शुरू करती हैं जिसके परिणाम कुछ ही समय तक होते हैं व इसके साइड इफेक्ट्स भी होते हैं।

आयुर्वेद में तमाम नुस्खे हैं जिनका प्रयोग करके आप पीरियड्स के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं। तो चलिए शुरू करते है और जानते है 10 tips to relief from menstrual cramps

1. Carrom seeds ( अजवाइन )-

4 कप पानी में 1 चम्मच अजवाइन के दाने डाल के उबाल लीजये , जब पानी एक कप रह जाये तो इसको उतार के छान लीजिये। हल्का गुनगुना ही इस काढ़े को पी जाइये।

2 चम्मच अजवाइन के दानों को भून लीजिये इसको दरोत के चूर्ण बना लीजिये , इस चूर्ण को फाक लीजिये ऊपर से 1 ग्लास गुनगुना दूध पी लीजिये।

क्यों है लाभकारी- अजवाइन में प्राकर्तिक दर्द निवारक गुण होते हैं जो पेट के दर्द व माहवारी के दर्द को कम करने में सहायक होता है।

2. Ginger ( अदरक )-

1 गांठ अदरक को 6 कप पानी में उबालें व जब पानी 2 कप रह जाए तब इसको छान लें।

इस चाय में 1-2 बूँद निम्बू का रस व 1 चमच्च शहद डाल के पियें।

क्यों है लाभकारी(tips to relief from menstrual cramps)

अदरक में नेचुरल एन्टी इंफ्लेमेटरी व रक्त को साफ करने के गुण होते हैं जो दर्द को कम करते हैं साथ ही रक्त प्रवाह में सहायता करते हैं।

3. Cinnamon ( दालचीनी )-

1/2 चम्मच दालचीनी पाउडर को 1 चम्मच शहद के साथ मिला कर दिन में 2 बार चाट ले ।

क्यों है लाभकारी-

दालचीनी में एन्टी पसमोदिक , एन्टी इंफ्लेमेटरी व एन्टी क्लोटिंग प्रॉपर्टीज होती हैं, जो खून को नलों में रुकने नही देती। दालचीनी नेचुरल पेनकिलर की तरह कार्य करती है।

4. Tulsi ( तुलसी )-

तुलसी मानव शरीर के लिए वरदान है। 10 -12 तुलसी की पत्तियों को पानी मे उबाल लीजिये । आप चाहे तोह इसमें लोंग के कुछ नग भी डाल सकती हैं।आप चाहे तो इसको ऐसे ही पी सकती हैं या फिर इसमें थोड़ा शहद मिला कर भी इसका सेवन बेहतर रहेगा।

क्यों है लाभकारी-

तुलसी में प्राकर्तिक दर्द को कम करने के गुण होते हैं साथ ही यह शरीर को शुद्ध भी करती है। इसके सेवन से माहवारी में दिक़्क़त नही आती ।

5. Hot water ( गर्म पानी )-

सुबह उठ कर 1 गिलास पानी को गरम करें । इतना गर्म की जिसे आप पी सकें।

क्यों है लाभकारी-

सुबह उठ कर गरम पानी पीने से रक्त स्त्राव बढ़ता है रक्त स्त्राव से ब्लड क्लोटिंग नही होती साथ ही दर्द भी नही होता।

6. Mustard oil ( सरसों का तेल )-

एक कटोरी में थोड़ा सरसों का तेल लेकर उसे गर्म करलीजिये। तेल सहता गर्म होना चाहिए। तेल गरम करने के बाद उसको अपने पेट के निचले हिस्से पर धीरे धीरे मसाज करें।

क्यों है लाभकारी-

सरसों के तेल से मसाज करने से नलों को सेंक मिलेगा साथ ही रक्त स्त्राव भी बेहतर होगा।

7. Beetroot ( चुकंदर )-

चुकंदर का सेवन आप कई तरीकों से कर सकती हैं , आप चाहे तो इसका जूस बना के पी सकती हैं , चाहें तो सलाद के रूप में कहा सकती हैं या शाक के रूप में इसको कहा सकती हैं।

क्यों है लाभकारी-

चुकंदर के सेवन से मासिक धर्म के दौरान शरीर में खून की कमी नही होती जिससे नलों में सिकुडन नही होती व दर्द में भी राहत मिलती है।

8. Flax seeds ( अलसी )-

मासिक धर्म के दौरान अलसी ( फ्लैक्स सीड्स ) को भून कर इसका चूर्ण का सेवन गुनगुने पानी के साथ सुबह उठ कर करना चाहिए।

क्यों है लाभकारी-

फ्लैक्स सीड्स में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड मासिक धर्म के दौरान आयी कमज़ोरी व दर्द को दूर करता है व शरीर को मजबूत बनाता है।

9. Fenugreek seeds ( मेथी )-

यूँ तो मेथी कब्ज़ व वजन घटाने के लिए बहुत ही लाभदायक मानी जाती है पर माहवारी में भी काफी लाभदायक होती है।

मेथी के दानों को रातभर पानी में भिगो दें और सुबह उठकर ये पानी पी लें।

क्यों है लाभदायक-

मेथी में एन्टी inflammation प्रॉपर्टीज होती है जो मासिक धर्म के दौरान जलन पैदा नही करती व रक्त संचार को बढ़ाती हैं।

10. Heat ( गरमाहट )-

हॉट वाटर बोतल में सहता गरम पानी भर लें ,इसको एब्डोमेन के निचले हिस्से पर रखकर सिकाई करें। हॉट वाटर बोतल न हो तो आप किसी प्लास्टिक के बोतल में पानी भरकर तोलिये में लपेटकर भी सिकाई कर सकती हैं।

●क्यों है लाभदायक-

गर्माहट देने से नलों व मसल्स को सेंक मिलती है जिससे रक्त संचार बढ़ता है व सिकुडन कम होती हैं । ऐंठन व दर्द घट जाता है।

उम्मीद है हमारा ये Article 10 tips to relief from menstrual cramps जो की Osheen Sharma ने लिखा है आपको जरूर पसंद आया होगा | ऐसे ही Article के लिए हमारा News Letter सब्सक्राइब जरूर करे 
Thank You

  5 tips for relieving menstrual pain

11 Tips To Grow Hair Naturally In Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here